हरदिन लोगों की बढ़ती ऑनलाइन खरिददारी के वजह से ई-कॉमर्स कंपनियों को सामान की डिलिवरी और कलेक्शन के लिये Delivery Boys/Girls की भर्ती करनी पड़ती है। जो कि Customers तक सामान की Delivery/Collection कर सकें। देश में ऐसी बहुत सी E-commerce companies जिन्हें डिलिवरी ब्यॉयज

ज्यादातर लोग वॉक इन इंटरव्यू का नाम सुनते ही कैंडिडेट्स की भीड़ के बारे में सोचकर घबरा जाते हैं। पर अगर ध्यान से देखें तो ये इंटरव्यू का एक बेहद ही आसान तथा बेहतरिन तरिका है। इंटरव्यू किसी भी जॉब के लिये कैंडिडेट्स के सलेक्शन का एक आसान प्रॉसेस होता है। इंटरव्यू दो तरह का होता है लिखित तथा मौखिक। लेकिन कुछ ऐसे जॉब्स भी होते हैं जिनके लिये कंपनिया वॉक इन इंटरव्यू सहारा लेती हैं जो पहले से शेड्यूल्ड नहीं होते हैं। और जिसकी सारी प्रक्रिया एक या दो दिन में पूरी कर ली जाती है।

बहुत बार ऐसा होता है जब हम जीवन के किसी मोड़ पर खुद को बेहद ही हताश और निराश महसूस करते हैं। हमारे पास सबकुछ होते हुए भी हम खुद को खाली और अकेला पाते हैं। और इन सबके बीच हम अपने लक्ष्यों से भटक जाते हैं। किसी के लिये जीवन में अपने लिये तय किये गये लक्ष्यों को पाना आसान नहीं होता है। हम सभी को अपने जीवन में अपने तय लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिये लगातार प्रयास करते रहना पड़ता है। और इसके लिये हमें मेहनत के साथ ही साथ हमेशा खुद को मोटिवेटेड रखने की जरुरत होती है। अब सवाल ये उठता है कि जब हम इतने परेशान हैं तो खुद को मोटिवेट कैसे करे

अगर हम जॉब पोर्टल्स की बात करें तो नौकरी डॉट कॉम को भारत का सबसे पुराना और सबसे बेहतर जॉब पोर्टल माना जाता है। हममें लगभग हर कोई एक अच्छी नौकरी पाने के लिये सबसे पहले जॉब पोर्टल्स पर अपना अकाउंट जरुर बनाता है। जहाँ वो अपने क्वॉलिफिकेशन, अनुभव, हॉबिज तथा किस फिल्ड में नौकरी चाहिये और साथ ही सेलरी कितनी चाहिये इन सब के बारे में लिखता है और साथ ही अपना रेज्यूमे अपलोड करते हैं। इसके बाद संबंधित जॉब पोर्टल से नोटिफिकेशन आना शुरु हो जाता है। पर दिक्कत तब होती है जब हमें नौकरी मिल जाती और उसके बाद भी इन जॉब पोर्टल से हमें लगातार नोटिफिकेश

राइटर की नौकरी एक ड्रीम जॉब होती है। कईयों का सपना होता है एक अच्छा और सफल लेखक बनने का। एक लेखक का काम आसान नहीं होता है। फिर चाहे वो कहानियाँ लिखे, उपन्यास लिखे या फिर न्यूज सबमें उतनी ही मेहनत तथा काबिलियत की आवश्यकता होती है। एक सफल राइटर बनने के लिए लेखक को लिखने की कला आनी चाहिए। एक लेखक के तौर पर आप स्टोरीज, नॉवेल या फिर न्यूज जो भी लिखते हैं वो कंटेंट ही होता है। और आपका कंटेंट नया हो इसके लिये एक लेखक को लगातार पढ़ते रहना पड़ता है। इसके साथ ही कुछ ऐसी महत्वपूर्ण बातें हैं जिनका ध्यान रखकर आप एक सफल हिन्दी कंटेंट राइटर बन स

छोटे तथा मध्यम उद्योग को पूरे विश्व में विकास का पर्याय माना जाता हैं। रोजगार मुहैयै कराने में भी इस क्षेत्र का बहुत बड़ा योगदान होता है। विश्व के सभी देशों में उनके जीडीपी में भी एसएमई का बहुत बड़ा योगदान होता है। यदि भारत की बात करें तो शहरों को साथ ही साथ कस्बों तथा गावों के औद्योगीकरण में एसएमई क्षेत्र की बहुत बड़ी भूमिका रही है। भारत के जीडीपी में एसएमई क्षेत्र का कुल योगदान 8%  है। आज इस क्षेत्र में 36 लाख इकाईयां हैं जो कि 80 लाख से ज्यादा लोगों को रोजगोर मुहैया कराती हैं। इतना ही नहीं यह क्षेत्र 6,000 से ज्यादा उत्पादों के माध्यम से कुल विनिर्माण उत्पादन में 45 प्रतिशत तथा

छोटे तथा मध्यम उद्योग को पूरे विश्व में विकास का पर्याय माना जाता हैं। रोजगार मुहैयै कराने में भी इस क्षेत्र का बहुत बड़ा योगदान होता है। विश्व के सभी देशों में उनके जीडीपी में भी एसएमई का बहुत बड़ा योगदान होता है। यदि भारत की बात करें तो शहरों को साथ ही साथ कस्बों तथा गावों के औद्योगीकरण में एसएमई क्षेत्र की बहुत बड़ी भूमिका रही है। भारत के जीडीपी में एसएमई क्षेत्र का कुल योगदान 8%  है। आज इस क्षेत्र में 36 लाख इकाईयां हैं जो कि 80 लाख से ज्यादा लोगों को रोजगोर मुहैया कराती हैं। इतना ही नहीं यह क्षेत्र 6,000 से ज्यादा उत्पादों के माध्यम से कुल विनिर्माण उत्पादन में 45 प्रतिशत तथा

आज को समय में हर कोई एक अच्छी नौकरी के साथ ही साथ अच्छे वेतन की चाह भी रखता है। ऐसे में डाटा एंट्री की जॉब एक बेहतर विकल्प हो सकता है। जहाँ आपको अपने हिसाब से घर से भी काम करने की आजादी के साथ अच्छे पैसे भी मिलते हैं। एक डाटा एंट्री ऑपरेटर के तौर पर आप पार्ट टाइम या फुल टाइम नौकरी घर अथवा ऑफिस दोनों जगहों से कर सकते हैं। इसके लिये आपको कंप्यूटर का ज्ञान तथा किसी एक भाषा पर पकड़ होना आवश्यक है, साथ ही अगर आपकी टाइपिंग स्पीड अच्छी हो तो फिर कहने ही क्या। डाटा एंट्री की नौकरी सरकारी तथा प्राइवेट दोनों ही सेक्टर्स में उपलब्ध है जिसमें

अब हिन्दी केवल भारत तक ही सीमित नहीं है बल्कि विदेशों में लगभग हर जगह पर हिन्दी बोलने और समझने वाले मिल जाएगें। अब हिन्दी विश्व स्तर अपनी जगह बना रही है। अगर हम बिहार की बात करें तो यह भारत के दस हिन्दीभाषी राज्यों में से एक है। यहाँ की ऑफिशीयल लैंग्वेज भी हिन्दी ही है। जिससे सभी सरकारी दफ्तरों में कामकाज होता है। सरकारी के साथ ही यहाँ प्राइवेट कंपनियों में भी अंग्रेजी के साथ ही हिन्दी को प्रयोग किया जाता है, बल्कि कई जगहों पर तो हिन्दी की प्रयोग ही ज्यादा होता है। अगर आपकी शिक्षा हिन्दी माध्यम से हुई है और आपने हिन्दी में ऑनर्स कि

एक अच्छी नौकरी पाना हर किसी के जिंदगी को सबसे बड़ा सपना होता है। नौकरी की तलाश में लोग अपना घर तथा शहर छोड़कर दूर-दूर तक भटकते हैं। और जब नौकरी मिल जाती है तो जैसे सारे सपने सच होने लगते हैं। पहले के समय में जहाँ लोग कॉलेज से निकलते ही एक अच्छी नौकरी की तलाश में लग जाते थे। और फिर एक ही नौकरी में रिटायरमेंट तक पूरी जिंदगी निकाल देते थे। पर अब ऐसा नहीं है, अब लोंगो को रिस्क लेना अच्छा लगता है। आज का युवा अपने कंफर्ट जोन से निकल कर कुछ नया और अलग करने में विश्वास करता है। और यहीं कारण है कि वो नौकरी के लिये हमेशा नये अवसरों की तलाश क